दिल में जागे.. अरमा ऐसे

दिल में जागे .... अरमा ऐसे
दिल में जागे
अरमा ऐसे
खो जाऊ मै
ख्वाबो में
नीला अम्बर
हलके बादल
भर लू में
आचल में
साँसों में
सरगम गाये
होले होले
कुछ कह जाये
धुवा धुवा
है ये समां
लगता है
सारा जहा
है मेरा है मेरा ..

भरे फूल मंडराएंगे
गीत कोई गाता जायेगा
कभी यहाँ कभी वहा
रंगोमे गाता जाये समां
भीगा भीगा है ये आसमा
हाँ मै भी इन रंगों में नहाके
ख़ुशी का गीत गुण गुनाऊ
खिल खिलाती हुई ये हवा
ये चली
बहारो को चूमती हुई जा रही
दिल में जागे
अरमा ऐसे
खो जाऊ मै
ख्वाबो में
नीला अम्बर
हलके बादल भर लू में
आचल में
साँसों में
सरगम गाये
होले होले कुछ कह जाये
धुवा धुवा है ये समां
लगता है
सारा जहा है मेरा है मेरा .

Comments

Popular posts from this blog

Finding Groundwater using COCONUT.

Dharma Shiksha books