कछुआ और खरगोश

एक था कछुआ, एक था खरगोश . दोनों ने आपस में दौड़ की शर्त लगाईं . कोई कछुवे से पूछे की तूने क्यों शर्त लगाईं ? क्या सोच के लगाईं ? दुनिया में मूर्खो की कमी नहीं-- बाहरनिकलो हजारो मिलते है . तय ये हुआ की दोनों में से जो नीम के टीले तक पहले पहुंचे , वह विजेता समझा जाय . उसे अधिकार है की हारने वाले के कान काट दे .

दौड़ शुरू हुई . खरगोश तो यह जा वह जा ! पलक झपकते में खासी दूर निकल गया . मियां कछुआ शान से चलते हुए मंजिल की तरफ चले. थोडी दूर पहुंचे तोह सोचा की बहुत दूर चल लिए . अब आराम भी करना चाहिए . एक दरख्त के नीचे बैठ कर अपने शानदार अतीत की यादो में खो गए, जब इस दुनिया में कछुवे राज किया करते थे . विज्ञान और कला में भी उनका बड़ा नाम था . यु ही सोचते सोचते आँख लग गयी. क्या देखते है की स्वयं तो तख्ते शाही पे बैठे हुवे है . बाकी निम्न कोटि के जीव -- शेर, चीते, खरगोश, आदमी वगैरह हाथ बांधे खड़े है या फर्शी सलाम कर रहे है . आँख खुली तोह अभी सुस्ती बाकी थी . बोले - " अभी क्या जल्दी है ? इस खरगोश के बच्चे की क्या हैसियत ? मै भी कितनी महान विरासत का मालिक हु . वाह भाई वाह ! मेरे क्या कहने ......"

न जाने कितनी देर सोते रहे . जब जी भर सुस्ता लिए, तो फिर टीले की और चल दिए. वहा पहुंचे तो खरगोश को न पाया. बहुत खुश हुए . अपने आप को शाबाशी दी- " वाह रे मेरी फूर्ती !! मै पहले पहुँच गया. भला कोई मेरा मुकाबला कर सकता है ? "

इतने में उनकी नज़र खरगोश के एक पिल्ले की ओर पड़ी , जो टीले की घाटी में खेल रहा था. कछुए ने कहा- " ए बरखुरदार !! तू खरगोश खा को जानता है ?"

खरगोश के बच्चे ने कहा -- " जी हां ! जानता हु . वह मेरे अब्बा हुजुर थे . मालूम होता है ., वह कछुए मियां आप है, जिन्होंने अब्बा जान से शर्त लगे थी . वह तो पांच मिनट में यहाँ पहुँच गए थे . उससके बाद मुद्दतो आपका इंतज़ार किया. आखिर स्वर्ग सिधार गए. जातेहुए वसीयत कर गए की कछुवे मियां आये तो उनके कान काट लेना ! अब लाइए इधर अपने कान !"

कछुवे ने फ़ौरन अपने कान और सर खोल के अन्दर कर लिया और आज तक छुपाये फिरता है.

Comments

Popular posts from this blog

Finding Groundwater using COCONUT.

Dharma Shiksha books