मोमबत्ती की लौ

रात भी ऐसी ही
जब थी निशि की बेला
मानस में छाया था
भावो का ही मेला

जैसे अपने प्रेमी से
रूठी हो मानिनी
वैसे ही रूठ गयी
सदन मध्य दामिनी

गुल हो गयी प्रकाश किरण
अन्धकार हो गया
मोमबत्ती मै जला कर
लिखने में खो गया

मोमबत्ती की लौ को
पाया कुछ कांपते
देखा मै पलभर
देखा मै हाँफते

कभी पूरब कभी पश्चिम
कभी उत्तर तो कभी दक्षिण

घूमती थी लौ इसकी
इतस्ततः
पल पल छिन्न

कभी तीखी, कभी फीकी
कभी पीली, कभी उजली

कभी खिले पुष्प सी
कभी ज्यो अधखिली कलि

देख उसे भाव कुछ
मेरे मन में भर आये
दर्दो के नाम कुछ
मुख पे उतर आये

पूछा मै
ऐ मोमबत्ती ! !
दिशा क्यों बदलती हो

क्यों न स्थिर भाव से
रात भर जलती हो
होता है यदा कदा
दिशाओ का परिवर्तन
ऐ मोमबत्ती की लौ !!
करती क्यों हो नर्तन

बोली वह पूरब में एक कन्या जली है आज
बिन दहेज़ आई थी इसलिए गिरी गाज
बोली वह उत्तर में
एक मानव हुआ है नंगा
कई कोस आगे चल
आज हुआ है दंगा

उत्तर में हत्या दक्षिण में अपहरण

यदा कदा यत्र तत्र
ऐसे ही है हुए चरण
कोई विश्वास में अपने को छलता है
तोह गिरगिट सा रंग जब कोई बदलता है .

मै प्रतीक बन उनका
बस संवर जाती हु
मरते जब आदमी

मै भी मर जाती हु

कही पड़ा भिक्षुक शव

मै समाज का प्रतीक
मै मोमबत्ती की लौ

आंधी आयी एक
मोमबत्ती गयी गुल
बाहर सुबह हुई
अँधेरा गया खुल

Comments

Popular posts from this blog

Finding Groundwater using COCONUT.

Dharma Shiksha books